Saturday, September 23, 2017
India's 1st Hindi SME Digital Media Platform
होम > MSME न्यूज़ > सेकंड हैण्ड सामान पर नहीं वसूला जाएगा GST, सरकार ने किया स्पष्ट

सेकंड हैण्ड सामान पर नहीं वसूला जाएगा GST, सरकार ने किया स्पष्ट


जीएसटी लागू हुए दो सप्ताह से अधिक का वक़्त हो चूका है।लेकिन उहा-पोह की स्थिति अभी भी बनी हुई है। कई चीज़ों को लेकर जीएसटी दर साफ़ नहीं है। इसीलिए सरकार ने एक बार फिर से सेकंड-हैण्ड सामान पर सफ़ाई देते हुए कहा है कि इस पर कोई टैक्स नही लगेगा। सरकार का कहना है…


जीएसटी लागू हुए दो सप्ताह से अधिक का वक़्त हो चूका है।लेकिन उहा-पोह की स्थिति अभी भी बनी हुई है। कई चीज़ों को लेकर जीएसटी दर साफ़ नहीं है। इसीलिए सरकार ने एक बार फिर से सेकंड-हैण्ड सामान पर सफ़ाई देते हुए कहा है कि इस पर कोई टैक्स नही लगेगा। सरकार का कहना है कि यदि सेकंड हैण्ड कोई माल या आइटम खरीदे गए दाम अर्थात पर्चेज मूल्य से कम मूल्य पर बेंचा जाता है तो उस पर कोई जीएसटी नहीं लगेगा।

गौरतलब है कि सेकेंड हैंड या पुरानी वस्‍तुओं के डीलरों के लिए और विशेष रूप से पुरानी एवं इस्तेमाल में लाई जा चुकी या प्रयुक्त खाली बोतलों के डीलरों के लिए जीएसटी के तहत मार्जिन योजना को लेकर भारी संशय था।

मार्जिन योजना

सरकार के अनुसार केद्रीय वस्‍तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) नियमावली 2017 के नियम 32 (5) में यह प्रावधान किया गया है कि जब सेकेंड हैंड या पुरानी अथवा प्रयुक्‍त वस्‍तुओं की खरीद-बिक्री करने वाले व्‍यक्ति द्वारा कर योग्य आपूर्ति उसी रूप में अथवा ऐसे मामूली फेरबदल के बाद की जाती है जिससे संबंधित वस्‍तुओं का स्‍वरूप नहीं बदलता है और जब इस तरह की वस्‍तुओं की खरीद पर कोई इनपुट टैक्स क्रेडिट नहीं लिया गया हो, तो आपूर्ति का मूल्य दरअसल बिक्री मूल्य और खरीद मूल्य के बीच का अंतर होगा और जहां इस तरह की आपूर्ति का मूल्य नकारात्मक है, वहां उसे नजरअंदाज कर दिया जाएगा। इसे मार्जिन योजना के रूप में जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*