Saturday, September 23, 2017
India's 1st Hindi SME Digital Media Platform
होम > MSME न्यूज़ > डिजिटल भारत के साथ डिजिटल होंगी MSMEs, मंत्रालय ने उठाये कई क़दम

डिजिटल भारत के साथ डिजिटल होंगी MSMEs, मंत्रालय ने उठाये कई क़दम


मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद उसके तीन साल का सफर पूरा करने की समयावधि तक एक नारा जिसकी चर्चा हिंदुस्तान के घरों से लेकर उद्योगों तक, हर जगह हुई है। जी हां यह नारा है डिजिटल भारत का- यानी भारत को पूरी तरह से सुचना और प्रौद्योगिकी (आईसीटी) से जोड़ना। भारत को…


मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद उसके तीन साल का सफर पूरा करने की समयावधि तक एक नारा जिसकी चर्चा हिंदुस्तान के घरों से लेकर उद्योगों तक, हर जगह हुई है। जी हां यह नारा है डिजिटल भारत का- यानी भारत को पूरी तरह से सुचना और प्रौद्योगिकी (आईसीटी) से जोड़ना।

भारत को डिजिटल बनाने का यह सपना एमएसएमई सेक्टर को डिजिटल किए बिना साकार नहीं किया जा सकता है। इस बात को सत्ता में आसीन एनडीए सरकार भलीभांति जानती है। जाने भी क्यों ना कृषि प्रधान कहे जाने वाले भारत में खेती के बाद एमएसएमई सेक्टर सबसे ज्यादा रोजगार पैदा करने वाला क्षेत्र जो है।

इसी को ध्यान में रखते हुए एमएसएमई मंत्रालय ने पिछले 3 सालों में एमएसएमई इकाइयों के डिजिटलीकरण के लिए कई पहलें की है। मंत्रालय ने डिजिटल इनिशिएटिव के तहत सेक्टर को आईसीटी योग्य बनाने की कोशिश की है।

ट्विटर और फेसबुक पर संवाद

एमएसएमई मंत्री कलराज मिश्र द्वारा समय-समय पर एमएसएमई की परेशानियों के समाधान के लिए फेसबुक व ट्विटर चैट का आयोजन भी गया। संवाद के माध्यम से मिश्र ने एमएसएमई द्वारा पूछे गए सवालों के जबाव भी दिए व उनकी समस्याओं को दूर करने के तरीके बताए।

उद्योगों के लिए डिजिटल स्कीम 

साथ ही एमएसएमई मंत्रालय ने डिजिटल एमएसएमई स्कीम के अंतर्गत क्लाउड कंप्यूटिंग की योजना के तहत सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्यमों के लिए 1 लाख रुपये तक की प्रस्तावित सब्सिडी को मंजूरी दे दी है। सब्सिडी 2 साल के लिए उपयोगकर्ता शुल्क पर उपलब्ध कराई जाएगी। इस स्कीम का लोकार्पण सरकार 27 जून को अंतर्राष्ट्रीय एमएसएमई दिवस के दिन करेगी।

उद्योगों को मिला परेशानियों के हल ले लिए मिला एक प्लेटफार्म: MyMSME एप

एमएसएमई सेक्टर को आईसीटी से जोड़ने के लिए हाल ही में संपन्न हुयी नेशनल एमएसएमई बोर्ड की 15वीं बैठक में सूचना प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू  ने  माईएमएसएमई ऐप (MymsmeApp) को लॉन्च किया था।

माईएमएसएमई एप मोबाइल एप्लिकेशन भारत के सभी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) और अन्य हितधारकों के लिए कार्यरत है।

ऐप्लीकेशन एमएसएमई की नीतियों, पंजीकरण, सेवाओं, योजनाओं आदि से संबंधित सभी सूचनाओं के स्रोत के रूप में कार्य करता है। जिसके तहत छोटे उद्यमी मोबाइल से ही अपना काम कर सकते हैं।

रजिस्ट्रेशन हुआ आसान

सरकार ने उद्योगों के रजिस्ट्रेशन के लिए उद्योग आधार मेमोरेंडम अर्थात UAM योजना को सितम्बर 2015 में शुरू किया गया था। UAM के तहत मात्र एक पेज का ऑनलाइन फॉर्म भरकर आप अपना उद्योग एमएसएमई मंत्रालय के साथ रजिस्टर कर सकते हैं, जिसके बाद आपको 16 अंको का रजिस्ट्रेशन नंबर मिल जाएगा। इस स्कीम को भी माईएमएसएमई एप में जोड़ा गया है।

ईएमएसएमई एप में एमएसएमई मंत्रालय की 27 एमएसएमई योजनाओं का समुचित विवरण मौजूद है।

मंत्रालय द्वारा इस एप में जिन योजनाओं को शामिल किया गया है उनकी सूची इस प्रकार है:

  1. उद्योग आधार मेमोरेंडम (यूएएम)
  2. जीरो डिफेक्ट जीरो इफेक्ट
  3. डिजीइन क्लीनिक
  4. लीन मैन्यूफेक्चरिंग
  5. क्वालिटी मेनेजमेंट स्टेंडर्डस् और क्वालिटी टेक्नोलॅाजी टूल्स
  6. टेक्नोलॅाजी एंड क्वालिटी अपग्रेडेशन
  7. मार्केटिंग एसेसटेंस एंड टेक्नोलॅाजी अपग्रडेशन
  8. इंटेलेक्चुअलप्रॉपर्टी सेंटर फॅार एमएसएमई
  9. इन्क्यूबेशन
  10. फैसीलिटेशन काउंसिल्स
  11. Grievance मॅानीटरिंग सिस्टम
  12. क्रेडिट लिंक्ड कैपीटल सब्सिडी स्कीम
  13. क्लस्टर डेवलपमेंट प्रोग्राम
  14. वुमेन एंटरप्रिनरशिप (TREAD) 
  15. क्रेडिट गारंटी (CGTMSE)
  16. प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) 
  17. ए स्कीम फॅार प्रमोटिंग इनोवेशन, रुरल इंडस्ट्री एंड एंटरप्रेनरशिप (ASPIRE)
  18. स्कीम आफ फंड फॅार रीजेनेरेशन आफ ट्रेडीशनल इंडस्ट्रीस (SFURTI)
  19. एमएसएमई स्कीम
  20. एमएसएमई प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  21. डाटा बैंक
  22. पब्लिक प्रोक्योरमेंट पॅालिसी
  23. नेशनल ट्रेनी एमएसएमई डाटाबेस
  24. टूल रुम्स
  25. एमएसएमईडीआई
  26. वेब
  27. डिजिटल एमएसएमई

एमएसएमई मंत्रालय की उपयुक्त योजनाओं का लाभ उठाने के लिए एक क्लिक करके आवेदन कर सकते हैं या फिर Mymsme एप मोबाइल पर डाउनलोड करके भी फ़ायदा उठा सकते हैं।

Shriddha Chaturvedi
ख़बरें ही मेरी दुनिया हैं, हाँ मैं पत्रकार हूँ
http://www.SMEpost.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*