Saturday, September 23, 2017
India's 1st Hindi SME Digital Media Platform
होम > MSME न्यूज़ > यस बैंक ने SMEs के ऋण के लिए प्राप्त किया 15 करोड़ यूएस डॉलर का फण्ड

यस बैंक ने SMEs के ऋण के लिए प्राप्त किया 15 करोड़ यूएस डॉलर का फण्ड


भारत के चौथे सबसे बड़े निजी क्षेत्र के बैंक, यस बैंक को छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमई) को ऋण देने के लिए अमेरिकी सरकार और वेल्स फार्गो से 150 मिलियन डॉलर (15 करोड़ यूएस डॉलर) का फण्ड मिला है। अमरीका सरकार की एजेंसी, ओवरसीज निजी इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन (ओपीआईसी), यस बैंक को लघु उद्योगों के वित्तपोषण…


भारत के चौथे सबसे बड़े निजी क्षेत्र के बैंक, यस बैंक को छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमई) को ऋण देने के लिए अमेरिकी सरकार और वेल्स फार्गो से 150 मिलियन डॉलर (15 करोड़ यूएस डॉलर) का फण्ड मिला है।

अमरीका सरकार की एजेंसी, ओवरसीज निजी इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन (ओपीआईसी), यस बैंक को लघु उद्योगों के वित्तपोषण के लिए $ 75 मिलियन और वेल्स फारगो बैंक से एक समूह फाइनेंस के तहत  $ 75 मिलियन वित्तपोषण के लिए प्रदान करेगा।

इस राशि में से 50 मिलियन डॉलर का उपयोग महिलाओं के स्वामित्व वाले व्यवसायों के समर्थन में किया जाएगा, जबकि कम आय वाले राज्यों में छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमई) के वित्तपोषण के लिए 50 मिलियन डॉलर राशि का उपयोग किया जाएगा।

यस बैंक के अनुसार यह ओपीआईसी और यस बैंक के बीच तीसरा लेन-देन है।

यह फंड अमेरिकी सरकार के विकास वित्त संस्थान, ओपीआईसी और वेल्स फारगो के बीच हुए समझौते के तहत है जिसका उद्देश्य भारत में छोटे और मध्यम उद्यमों को बेहतर ऋण सुविधा उपलब्ध करना है।

ओपीआईसी के कार्यकारी अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी देव जगदेशन ने कहा है कि ओपीआईसी की इस सुविधा से यस बैंक अपनी एसएमई ऋण क्षमता का विस्तार करने में सफल होगा और विशेष रूप से उन कम आय वाले राज्यों में महिलाओं और उद्यमियों तक पहुंचने में सक्षम होगा, जो भारत के आर्थिक विकास में बड़ा योगदान देते हैं।

वेल्स फारगो बैंकिंग, निवेश, क्रेडिट कार्ड, बीमा और उपभोक्ता और वाणिज्यिक वित्तीय सेवाओं का प्रदाता है।

भारत में एसएमई इकाइयों से 4 करोड़ 20 लाख लोगों को लाभ पहुंचा है। एक अनुमान के अनुसार भारत में 30 लाख महिलाओं के स्वामित्व वाले व्यवसाय 8 मिलियन लोगों को रोजगार देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*